Tuesday, April 20, 2010

सम्भंधो को नभाने का अपना अंदाज़ कभी भी काम नहीं आता
सम्बन्ध यानि कोई एक ओर है जिससे आप जुड़ना चाहते है ,चाह्तेहाई कि उसकी अस्मिता को अक्षुण रखते हुए ,उसके होने का अहसास करतेहुए..स्वतंत्रता  के मायने  समझते हुए आप गुजारना चाहते है किसी के साथ अपना समय ...
अब आप को तयार होना पदेग्गा उसकी मान्यताओं को उसकी परम्परून को उसके सोचने के तरीके को उसके जीवन से अपना जीवन का तादात्मय बैठने के लिए ..होले होले अपने को उसमे व् उसको अपने में उसकी विशिष्टताओं को अपनी व् अपनी विउशिस्त्ताओं को उसमे ढलने का धर्य रखना होगा
दोस्त के सही मायने तभी प्राप्त होंगे
मगर सव्काल येही उत्तेर कि अपेक्षा करने लगता है कि क्या मूल रूप से हम किसी और के होने को मानना चाहते है ...उसको स्वीकारने का मतलब है उसके मिर्त्रों को उसके अन्य संबंधो को भी मान्यता देना
क्या हम तयार है ?
ये ऐसे प्रश्न है जो लगते है कि बहुत छोटे व् अनाय्स्यक रूप से बड़े दिखाने कि में कोशिस कर रहा हूँ
मगर
येही मूल प्रश्नही ..और येही समाज में आज विखंडन के कारन भी
क्यूंकि हम आनायास ही प्रेम में एक दूसरे को अपने सुख के लिए इस्तेमाल करने का प्रयास करते है ..और होते भी है
ये इस्तेमाल करने कि परवर्ती शायद हमारे कम संसकारी होने का परिचय है
उसे धीरे से संस्कार में बदलना पड़ता है जैसे बच्चे को सिखाया जाता है कि अपनी जरूरतों को बताने का तरीका
उन जरूरतों के बहाने अनायास बच्चे के अन्दर अगर यह अहसास जागता है कि इसके बहाने में अतिरिक्त स्नेह पा लूंगा तो उसे टोका जाना चाहिए .............(क्रमश)

6 comments:

  1. dhanyawad ksham ..aap kuch sujhav de to acha lagega hum aur saaf ho sakenge

    ReplyDelete
  2. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  3. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  4. आप हिंदी में लिखते हैं। अच्छा लगता है। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं..........हिंदी ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं.....बधाई स्वीकार करें.....हमारे ब्लॉग पर आकर अपने विचार प्रस्तुत करें.....|

    ReplyDelete
  5. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete